आकस्मिक युद्ध से निपटने को फौज तैयार, 20 हजार करोड़ के रक्षा डील फाइनल

नई दिल्ली,

बेहद कम समय में अब भारतीय फौज भी आकस्मिक युद्ध जैसी परिस्थिति से निपटने के लिए भी तैयार हो जाएगी। ऐसा इसलिए  कि पिछले 2 से तीन महीनों में भारत ने कई रक्षा सौदे किये हैं। इन सौदों की वजह से इंडियन आर्मी बेहद शॉर्ट नोटिस पर भी अपने फाइटर्स, टैंक्स को युद्ध के लिए तैयार हो जाएंगे।

एक अंग्रेजी अखबार की वेबसाइट पर चल रही खबर के मुताबिक, पिछले 2 से 3 महीनों में सरकार ने गोला-बारूद समेत अन्य युद्ध सामग्री से जुड़ी 20 हजार करोड़ रुपये की इमर्जेंसी डील्स फाइनल कर दी हैं। अखबार ने रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक बताया है कि इसके पीछे उद्देश्य यह तय करना है कि भारतीय सेना गोला-बारूद की कमी के बिना कम से कम 10 दिनों तक कड़ी लड़ाई लड़ पाए। सरकार ने पिछले साल सितंबर में उड़ी में हुए आतंकी हमले के बाद रूस, इजरायल और फ्रांस के साथ नए करार तेजी से फाइनल किए हैं।

भारतीय वायुसेना ने 9200 करोड़ रुपये के 43 करार पर हस्ताक्षर किये हैं। वहीं थल सेना ने रूस की कंपनियों के साथ 10 करार को फाइनल किया है। एक सूत्र के मुताबिक, ‘नए इमर्जेंसी खरीदों के बाद भारतीय फौज किसी आतंकी हमले के बाद कमियों वाली लिस्ट दिखा कर पल्ला नहीं झाड़ पाएंगी।’

सेना ने रूसी कंपनियों के साथ 5,800 करोड़ रुपये के 10 करार पर हस्ताक्षर किए हैं। इस करार के तहत APFSDS के लिए 125 इंजन और टी-20 तथा टी-72 टैंक के लिए गोला खरीदा जाएगा। बता दें कि सरकार द्वारा इस इमर्जेंसी खरीदारी से सेना को काफी मजबूती मिलने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *