एशेज सीरीज पर SPOT फिक्सिंग का साया, ‘साइलेंट मैन’ का नाम आया

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच पर्थ में चल रहे तीसरे एशेज टेस्ट में स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने इंकार किया है।

ये मुकाबला इसलिए फिक्सिंग के घेरे में आया है, क्योंकि एक अखबार ने दावा किया है कि दो भारतीय सट्टेबाज अखबार के एक अंडरकवर एजेंट को इस मैच की जानकारी बेचने के लिए तैयार थे।

एंटी करप्शन यूनिट कर रही जांच-

आईसीसी एंटी करप्शन यूनिट के जीएम एलेक्स मार्शल ने कहा कि- आईसीसी स्पॉट फिक्सिंग के इन आरोपों को बहुत गंभीरता से ले रही है, मगर उसे अब तक पर्थ टेस्ट के दौरान स्पॉट फिक्सिंग के कोई भी सबूत नहीं मिले हैं।’

वहीं एंटी करप्शन यूनिट के मार्शल ने कहा कि-‘हमें अखबार ‘सन’ की पड़ताल से जुड़े सारे दस्तावेज मिल गए हैं। हम इन आरोपों को गंभीरता से ले रहे हैं। यही वजह है कि दस्तावेज मिलते ही आईसीसी की एंटी-करप्शन यूनिट ने इसकी जांच शुरू कर दी है। जिसमें मेंबर देशों की भी मदद ली जा रही है।’

बुकीज ने लाखों डॉलर में किया जानकारी का सौदा-

अखबार के अंडरकवर एजेंट ने योहान सोबर्स और प्रियांक सक्सेना नाम के भारतीय बुकी से संपर्क साधा था। इन दोनों ने पर्थ टेस्ट के दौरान एक ओवर में कितने रन बनेंगे, उसके लिए 1,87,000 डॉलर के सौदे की पेशकश की थी। ऐसी जानकारी आ रही है कि बुकी योहान दिल्ली की तरफ से जूनियर लेवल पर क्रिकेट खेल चुका है।

वहीं एक अखबार की रिपोर्ट की मानें तो ये सट्टेबाज विराट कोहली के साथ दिल्ली स्टेट टीम की तरफ से भी मैदान में उतर चुका है।

ऑस्ट्रेलियाई ‘साइलेंट मैन’ से इनका रिश्ता-

ये दोनों दिल्ली में रहते हैं और इनका ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट में ‘साइलेंट मैन’ के नाम से जाने जाने वाले फिक्सर से कनेक्शन है। इन दोनों सट्टेबाजों की मानें तो ऑस्ट्रेलिया के इस साइलेंट फिक्सर के मौजूदा खिलाड़ियों के साथ ही कंगारुओं को वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाली टीम के ऑलराउंडर से भी करीबी रिश्ते हैं।

इस ऑपरेशन के दौरान अखबार के अंडरकवर रिपोर्टर्स को बुकीज ने बताया कि वो पहले भी इंडियन प्रीमियर लीग यानी आईपीएल के मैच फिक्स कर चुके हैं। वहीं अब उनकी तैयारी ऑस्ट्रेलिया में 19 दिसंबर से शुरू हो रही बिग बैश लीग(बीबीएल) में ऐसा करने की थी।

2013 में स्पॉट फिक्सिंग सामने आई थी-

आईपीएल के 2013 के सीजन में स्पॉट फिक्सिंग का जिन्न बाहर निकला था। जब भारत के पूर्व तेज गेंदबाज एस श्रीसंथ, अजित चंदिला और अंकित चव्हाण स्पॉट फिक्सिंग के आरोप के बाद गिरफ्तार हुए थे। इसके बाद इन खिलाड़ियों पर आजीवन प्रतिबंध लगाया दिया गया था।

वहीं सट्टेबाजी के आरोपों के बाद चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स टीम को आईपीएल से सस्पेंड कर दिया गया था।

दोनों क्रिकेट बोर्ड ने किया फिक्सिंग के आरोपों से इंकार-

इस बीच इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने अपने खिलाड़ियों के स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने के आरोपों से इनकार किया है। हालांकि दोनों देशों के क्रिकेट बोर्ड ने आईसीसी की एंटी-करप्शन यूनिट की जांच में जरुर पूरी मदद का भरोस दिया है।

Related posts

Leave a Comment