मजबूत होते पन्नीरसेल्वम को शशिकला का जवाब- राजनीति में महिला बर्दाश्त नहीं

तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी AIADMK में उठा सत्ता का संघर्ष अभी खत्म होता नहीं दिख रहा है. शशिकला गुट और पन्नीरसेल्वम गुट दोनों ही सरकार बनाने के लिए अपना-अपना पक्ष मजबूत करने में लगे हुए हैं. पन्नीरसेल्वम को तब और ताकत मिल गई जब वी के शशिकला का साथ छोड़कर अन्नाद्रमुक के एक विधायक और चार सांसद उनके साथ आ गए. वहीं शशिकला ने उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण कराने में हो रही देरी को लेकर राज्यपाल विद्यासागर राव पर निशाना साधा.

पन्नीरसेल्वम के समर्थन में आ रहे सांसद
रविवार को भी तीन और सांसदों ने अपने समर्थन पन्नीरसेल्वम को दिया. अन्नाद्रमुक के पूर्व सांसद और कलाकार रामाराजन भी पन्नीरसेल्वम से मिले और कहा कि ये ही हमारे नेता हैं. ये एमजी रामचंद्रन के मार्ग का अनुसरण कर रहे हैं. रविवार को पार्टी सांसद बी. सेंगुत्तुवन, जयसिंह त्यागराज नटर्जी और आरपी मरथुराजा पन्नीरसेल्वम के आवास पहुंचे. पार्टी कार्यकर्ताओं और सांसदों ने पन्नीरसेल्वम के आवास पर उनका सम्मानित किया वहीं शशिकला समर्थकों ने पन्नीरसेल्वम के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

‘कुछ लोगों को महिला स्वीकार नहीं’
जो कुछ हो रहा है, हमारे लिए नया नहीं है. पहले भी पार्टी को तोड़ने की कोशिश हो चुकी है. कुछ ऐसे लोग हैं जो पार्टी में महिला को स्वीकार नहीं करना चाहते. अगले साढ़े चार साल अन्नाद्रमुक की सरकार रहेगी. मैं सही समय पर सभी आरोपों का जवाब दूंगी. जया न्यूज के हवाले से कहा गया है कि शशिकला ने कहा कि एमजीआर के समय भी कुछ लोगों ने पार्टी छोड़ी थी. अम्मा (जयललिता) ने पार्टी को खड़ा किया. हम भी इस विश्वासघात से उभरेंगे और पार्टी को खड़ा करेंगे.

सोमवार को फैसला आने की उम्मीद नहीं
शशिकला के लिए मुश्किलें इतनी ही नहीं हैं. उनके खिलाफ चल रहे आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला सोमवार को आने की उम्मीद नहीं है. सुप्रीम कोर्ट की कॉज लिस्ट में शशिकला के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति वाला मामला शामिल नहीं है. कॉज लिस्ट में शशिकला का मामला न होने का मतलब है कि सोमवार को उस पर कोई फैसला आने की उम्मीद नहीं है. ऐसे में दूसरी ओर ये भी खबर है कि शशिकला गुट जरूरत पड़ने पर सीएम कैंडिडेट बदलने पर भी विचार कर रहा है.

विधायकों से मिलीं शशिकला
इससे पहले शनिवार को अन्नाद्रमुक की महासचिव शशिकला ने अपने समर्थक विधायकों से रिसॉर्ट में मुलाकात की. उन्होंने रात में कहा कि राज्यपाल द्वारा उन्हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने में विलंब ऐसा प्रतीत होता है कि हमारी पार्टी में टूट को सुगम बनाने के लिए है. शशिकला ने शनिवार को राज्यपाल को लिखे पत्र में कहा था कि उन्होंने गुरुवार को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के वास्ते एक विस्तृत प्रस्तुति दी थी क्योंकि मेरे पास पूर्ण बहुमत है.

‘AIADMK को कोई नहीं हिला सकता’
शशिकला ने कहा कि वह लोकतंत्र तथा न्याय में विश्वास करती हैं और फिलहाल संयम बनाए रखेंगी. कुछ वक्त हम संयम रखेंगे. उसके बाद सब मिलकर वही करेंगे, जो करने की जरूरत है. महासचिव ने कहा कि एआईएडीएमके एक लौह किला है और इसे कोई हिला नहीं सकता. उन्होंने कहा कि पार्टी के पास 1.5 करोड़ मतदाता हैं, और जो इसे विभाजित करने का प्रयास करेगा पार्टी उसे नहीं छोड़ेगी.

शशिकला ने राज्यपाल को धमकाया है, एक्शन होः मैत्रेयन
एआईएडीएमके के राज्यसभा सांसद वी. मैत्रेयन ने कहा है कि पार्टी की महासचिव वी के शशिकला ने राज्यपाल को ‘धमकी’ दी है, जिसके लिए उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए. उन्होंने राष्ट्रपति से अपील की कि राज्यपाल के खिलाफ ‘धमकी भरे बयान’ के लिए पार्टी महासचिव शशिकला के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *