सरकार ‘जीरो एक्सीडेंट रेल’ बनाने की दिशा में कर रही है प्रयास : सिन्हा

नई दिल्ली : देश में ट्रेन दुर्घटनाओं में आतंकवादी साजिश की खबरों पर चिंता जताते हुये रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने आज कहा कि सरकार ‘जीरो एक्सीडेंट रेल’ बनाने की दिशा में कई स्तरों पर प्रयास कर रही है।

सिन्हा ने एक निजी टेलीविजन चैनल द्वारा यहाँ बजट पर आयोजित कार्यक्रम में कहा, “चाहे वह आंदोलन हो या आतंकवादी साजिश रेलवे हमेशा सबसे आसान निशान रहा है। ट्रेन हादसों की पिछली तीन-चार घटनाएँ चिंताजनक हैं।

”उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य भारतीय रेल को ‘जीरो एक्सीडेंट रेल’ बनाना है और इसके लिए बजट में विशेष सुरक्षा कोष के गठन की घोषणा के साथ कई स्तरों पर प्रयास किये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि रेल सुरक्षा बल (आरपीएफ) में एक खुफिया तंत्र भी बनाया गया है जो इस तरह की साजिशों को नाकाम करने की कोशिश करेगी। साथ ही रेल मार्गों की सुरक्षा बढ़ाने के उपायों के बारे में गृह मंत्रालय से भी बात की जा रही है।

उन्होंने कहा कि कानपुर के पास हुये हादसे में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई की भूमिका की जाँच खुफिया एजेंसियाँ कर रही हैं।

उन्होंने कहा कि मोतीहारी पुलिस ने जिन लोगों को दुर्घटना के सिलसिले में गिरफ्तार किया है उनमें से कुछ ने स्वीकार किया है कि उन्हें तीन-तीन लाख रुपये देने का वादा किया गया था।

पुलिस का कहना है कि इस घटना के तार आईएसआई से जुड़े होने के भी संकेत मिले हैं। साथ ही रेल पटरियों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए विशेष सुरक्षा कोष का भी गठन किया जायेगा जिसकी घोषणा बुधवार को बजट में की जायेगी।

उन्होंने कहा कि दुर्घटना के बाद सरकार मुआवजों की घोषणा करती है, लेकिन किसी की मौत का कोई मुआवजा नहीं हो सकता।

एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *